Home Health वर्ग रेस-फ़िट का नया तरीका, जानें ख़ास बातें 3- News18 हिंदी

वर्ग रेस-फ़िट का नया तरीका, जानें ख़ास बातें 3- News18 हिंदी


सेहतमंद रहना हर कोई नहीं चाहता है और इसके लिए रूटीन में एक्सरसाइज को शामिल करना भी आवश्यक है। लेकिन इस भागती- दौड़ती और वर्ग होती जा रही दुनिया में ऐसा करना थोड़ा मुश्किल लगता है। इससे पार पाने के लिए ही कक्षा विश्व में कक्षा रेस का कांसेप्ट (अवधारणा) आया। अगर आपने कभी इसके बारे में नहीं सुना है तो यहां हम आपको इस तरह की रेस और इसके हिस्से बनने की पांच वजहों के बारे में बताने जा रहे हैं।

वर्ग रेस क्या है:

वर्ग (आभासी) रेसिंग वह है जहां आप एक बड़ी श्रेणी की टीम के हिस्से के तौर पर अपनी जगह पर अपने पेसो (पेस) से फिटन पाने का चैलेंज लेते हैं। जब आप चैलेंज पूरा कर लेते हैं, तो यह सबूत के तौर पर अपलोड करते हैं और आपका मेडल पोस्ट किया जाता है। यह केवल रनरस (धावक) के लिए नहीं है। हर उम्र और क्षमताओं वाले हजारों लोग दुनिया भर से इसमें भाग लेते हैं। दौड़ना, चलना, साइकिल चलाना, या किसी विशेष कारण (कारण) के लिए रेसिंग चुनौती कुछ भी हो सकती है।

यह भी पढ़ें:पॉजिटिव थिंकिंग भी जीवन में धकेल सकता है, जानें क्या है सच्चाई

कक्षा रेस में भाग लेने के कारण क्या हैं:

यह रेस इसलिए नपुलर है कि क्यों लोगों को कुछ ढंग का काम करने का अहसास होता है। कई स्टडीज बताती हैं कि न दौड़ने वाले लोगों की तुलना में रनर्स अधिक खुश रहते हैं। ऐसे समूहों में शामिल होने के लिए उत्साह प्राप्त करना और आत्मविश्वास पैदा करने का शानदार तरीका है। इसके अलावा, एक रेसर के तौर पर आपको दौड़ के रोमांच का अनुभव भी मिलता है और फिर अंत में दौड़ के लिए पदक भी।

ऐसा कुछ जिस पर यकीन है कि उसे प्रोत्साहन है:

एक विशेष कॉज के लिए रेसिंग विशेषकर जो आपके दिल के करीब है, आपको बहुत बड़ा और महत्वपूर्ण कुछ पा लेने का अहसास दे सकता है।

कुछ हासिल करने की भावना:

एक चुनौती को खत्म करना और मेडल लेना आपको धैर्य और कुछ पा लेने के मूल रूप से अहसास को महसूस करना है। अपनी पहली दौड़ पूरी की हो या अपनी ही पिछली रेस का सेठ रेकॉर्ड तोड़ा हो। यह अहसास आपको लंबे समय तक देता है जब तक खुशी रहती है।

यह भी पढ़ें: 4 कारण जो बताते हैं कि भावनाओं को व्यक्त करना आवश्यक क्यों है

बेहतरीन शारीरिक फायदे:

दौड़ना एक्सरसाइज का एक शानदार तरीका है। इससे तनाव, अवसाद ही दूर नहीं होता बल्कि अच्छी नींद भी आती है। आपका मूड अच्छा होता है क्योंकि दौड़ने से शरीर में बूस्टिंगॉर्म रिलीज होते हैं।

बंद रखता है:

यह लक्ष्य बनाने के बाद उस पर टिके रहने का शानदार तरीका है। जो फोकस और अनुशासन आप यहां सीखते हैं, वे अन्य क्षेत्रों में आपकी मदद कर सकते हैं, जैसे कि काम के क्षेत्र में। (अस्वीकरण: इस लेख में दी गई जानकारी और सूचना सामान्य जानकारियों के आधार पर हैं। हिंदी समाचार 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है। ये पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें।)



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read