Home Health यूरिक एसिड बढ़ने से होती हैं गंभीर बीमारियां, जानें कारण और घरेलू...

यूरिक एसिड बढ़ने से होती हैं गंभीर बीमारियां, जानें कारण और घरेलू उपचार- News18 हिंदी


शरीर में यूरिक एसिड (यूरिक एसिड) बढ़ने से कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। शरीर में यूरिक एसिड के बढ़ने से दूसरे अंगों पर बुरा असर पड़ता है। यूरिक एसिड की अधिकता की वजह से जोड़ों में दर्द, शरीर में सूजन, किडनी की बीमारी और मोटापा जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं। यूरिक एसिड बढ़ने पर ब्लड प्रेशर, थायराइड और डायबिटीज जैसी घातक बीमारियों का खतरा भी होता है। हालांकि, शरीर में पहले से ही यूरिक एसिड की कुछ मात्रा होती है, जो 3.5 से 7.2 मिलीग्राम प्रति डेसी प्रोटीन तक हो सकती है। अगर इससे ज्यादा यूरिक एसिड की मात्रा पाई गई, तो यह हाई यूरिक एसिड की समस्या कहा जाता है। यूरिक एसिड शरीर में मौजूद प्यूरीन नामक प्रोटीन के टूटने से बनता है।

शरीर में यूरिक एसिड ज्यादा ना बढ़े, इसके लिए उन चीजों के सेवन से बचना चाहिए, जिसमें प्यूरीन की मात्रा अधिक होती है। यूरिक एसिड को बढ़ाने में शराब और नॉनवेज जैसी चीजें जिम्मेदार होती हैं। स्वास्थ्य वेबसाइट स्वास्थ्य पर छपी रिपोर्ट से यूरिक एसिड बढ़ने के कारण और घरेलू उपचार जानें …

यूरिक एसिड बढ़ने के कारण:
– कई बार यूरिक एसिड अनुवांशिक कारणों से भी बढ़ जाता है।
-गलत डाइट या खान-पान भी यूरिक एसिड बढ़ने की वजह बन सकता है।
-कुछ खाद्य पदार्थ जैसे- लाल मीट, सी फूड, दाल, राजमा, पनीर और चावल जैसे खाने से भी यूरिक एसिड बढ़ सकता है।
-बहुत देर तक भूखे रहने से भी यूरिक एसिड बढ़ने की समस्या हो सकती है।
-डायबिटीज के मरीजों को हो सकता है यूरिक एसिड
-मोटापा कई बीमारियों की जड़ है। कई बार यह यूरिक एसिड बढ़ने की वजह बन सकता है।

यूरिक एसिड बढ़ने पर अपनाएं ये घरेलू उपाय:

ब्लैकरी का जूस पीने से यूरिक एसिड कम होता है। यह गठिया या किडनी स्टोन की समस्या से ग्रसित रोगियों के काफी फायदेमंद मिश्रण है। ब्लैकरी में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लेमेंटरी गुण पाए जाते हैं, जो यूरिक एसिड को कम करने में मदद करते हैं।

यूरिक एसिड को नियंत्रित रखने का सबसे अच्छा तरीका ज्यादा से ज्यादा पानी पीना है। वास्तव में पानी यूरिक एसिड को पतला करता है, जिससे शरीर से यूरिक एसिड पेशाब के माध्यम से बाहर निकल जाता है।

सेब का सिरका शरीर से यूरिक एसिड को कम करने में मदद करता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेंटरी गुणों के कारण यह शरीर में क्षारीय एसिड संतुलन को बनाए रखता है। सेब का सिरका खून के पीएच स्तर को बढ़ाकर, यूरिक एसिड को कम करने में मदद करता है। (अस्वीकरण: इस लेख में दी गई जानकारी और सूचना सामान्य जानकारी पर आधारित हैं। हिंदी न्यूज़ 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें।)



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read