HomeReligiousमासिक दुर्गाष्टमी २०२१- मासिक दुर्गाष्टमी पर इन उपायों को करने से घर...

मासिक दुर्गाष्टमी २०२१- मासिक दुर्गाष्टमी पर इन उपायों को करने से घर में आती है खुशियां जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा विधान



मासिक दुर्गाष्टमी 2021: प्रत्येक माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मासिक दुर्गाष्टमी मनाई जाती है। मासिक दुर्गाष्टमी को दुर्गाष्टमी, मास दुर्गाष्टमी और महाष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। आपको यहीं यह भी बता दें कि वास्तव में महाष्टमी और मास मास में नौ दिन के शारदीय नवरात्रि में आता है। मासिक दुर्गाष्टमी का बहुत बड़ा महत्व माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन व्रत और पूजा-पाठ करने से घर की रूठी हुई खुशियाँ पुनः लौट आती हैं। आइए जानते हैं मासिक दुर्गाष्टमी के शुभ मुहूर्त और किए जाने वाले उपायों के बारे में।

शुभ मुहूर्त:

  1. मासिक दुर्गाष्टमी का आरम्भ- 20 जनवरी दिन बुधवार को दोपहर 01 बजकर 14 मिनट से।
  2. मासिक दुर्गाष्टमी की समाप्ति- 21 जनवरी, दिन गुरुवार को दोपहर 03 बजकर 50 मिनट।

पूजाविधि:

मासिक दुर्गाष्टमी के दिन सुबह स्नान करने के बाद सबसे पहले लाल रंग का वस्त्र पहन कर और लाल रंग का तिलक लगाकर तांबे के पात्र से सूर्य देवता को अर्ध्य देना चाहिए। इसके बाद मां दुर्गा की मूर्ति या फोटो चंदन की चौकी पर रखनी चाहिए। इसके बाद माँ की मूर्ति पर लाल रंग का पुष्प चढ़ाकर धूप और दीप जलाना चाहिए। इसके साथ ही मां को 16 श्रृंगार का सामान भी चढ़ाना चाहिए। इसके बाद मां दुर्गा की ज्योति जलाकर सूर्योदय और सूर्य्यास्त के समय दुर्गा सप्तसती का पाठ करना चाहिए। सप्तसती का पाठ करने के बाद स ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चै ’का जाप करना चाहिए। बाद में माँ को चढ़ाए गए 16 श्रृंगार का सामान किसी सुहागन या नवदुर्गा के मंदिर में दे देना चाहिए। ऐसा करने से घर की रूठी हुई खुशियाँ पुनः लौट आने लगती हैं।

पूजा के समय इसे भी रहते हैं विशेष ध्यान दें:

  1. घर में सुख और समृद्धि के लिए मां की ज्योति आग्नेय कोण में जलाना चाहिए।
  2. पूजा करने वाले का मुख पूजा के समय पूर्व या उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए।
  3. पूजा के समय पूजा का सामान दक्षिण-पूर्व दिशा में रखना चाहिए।
  4. इस दिन कभी न करें ये गलतियाँ: .मासिक दुर्गाष्टमी की पूजा करते समय यह ध्यान रखें कि पूजा में तुलसी, आंवला, दूर्वा, मदार और आक के पुष्प का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  5. घर में कभी एक से अधिक माँ दुर्गा की प्रतिमा या फोटो नहीं रखना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read