HomeHealthबड़ा उपयोगी है पांच तत्वों से बना ये तेल, ठंड में इन...

बड़ा उपयोगी है पांच तत्वों से बना ये तेल, ठंड में इन तकलीफों को करता है दूर- News18 हिंदी


आज के जमाने के लोग कितने भी हाईटेक (हाई-टेक) क्यों न हो जाएं लेकिन किसी न किसी तरह से पुराने जमाने का दामन जरूर पकड़े रहते हैं। अगर बात करें दाद-नानी के नुस्खों की तो हाई टेक्नोलॉजीज के दौर में भी ये नुस्खे बड़े विश्वास के साथ अपनाए जा रहे हैं। ऐसे ही एक मिश्रण में पाँच तत्व से बने तेल का (तेल) है। ये तेल झड़ने की वजह से होने वाली कई तकलीफों को दूर करता है। ये तेल खांसी-जुकाम (खांसी और जुकाम), पसलियों और बदन में दर्द, ठंड से जकड़न जैसी कई तकलीफों को कम करने में कारगर साबित होता है। पुराने जमाने में दाद-नानी के जरिए बनाई जाने वाली ये तेल लोग आज भी घरों में इस्तेमाल कर रहे हैं। इस तेल को घर पर तैयार करना बेहद आसान है। तो चलिए बताते हैं कि इस तेल को घर पर किस तरह से तैयार किया जा सकता है।

इन चीजों की जरूरत है
तेल को बनाने के लिए जिन चीजों की जरूरत होती है वह हैं- सरसों का तेल, लहसुन की कलियां, अजवायन, हींग, मेथी और गोफल। मात्रा इस तरह से होगी। सरसों का तेल 100 ग्राम, लहसुन की कलियां 20-25, अजवायन 2 बड़े चम्मच, हींग 1 बड़ा चम्मच, मेथी 2 बड़े चम्मच और 1 गोभी।

यह भी पढ़ें: सर्दियों में जरूर खाएं चौलाई का साग, इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग कर बीमारियों को दूर करता है

इस तरह तैयार करें तेल

सबसे पहले सरसों के तेल को कढ़ाही में डालकर गर्म करें। जब तेल गर्म हो जाए तो उसमें लहसुन की कलियों को काटकर डालें। गैस की फ्लेम को नीचे रखें। जब कलियां सुनहरे रंग की होने लगें तब कढ़ाही में अजवायन, हींग और मेथी को डालें। इसके साथ ही गोफल में छोटे-छोटे टुकड़े होते हैं। सभी चीजों को तब तक तेल में जकड़ना चाहिए जब तक वह काला न हो जाए। इसके बाद गैस को बंद कर दें और तेल को ठंडा होने दें। ठंडा होने पर तेल को किसी भी ग्लास या प्लास्टिक की बोतल में भर कर रख लें।

कब किया जा सकता है?
इस तेल का उपयोग विशेष रूप से तब करें जब ठंड की वजह से पसलियों, पीठ, कमर या छाती में दर्द की शिकायत हो। जुकाम और जकड़न होने पर भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। इस तेल को छाती, पसलियों, पीठ और पैर के तलवों पर मलने से दर्द में आराम मिलता है और ठंड का असर भी कम होता है।

ऐसे करें
जरूरत के समय तेल को किसी छोटे बाउल में निकाल कर गुनगुना करें और दर्द वाली जगह पर हल्के हाथों से मालिश करें। मालिश तब तक करें जब तक तेल सूख न जाए।

यह भी पढ़ें: सर्दियों में जरूर खाएं ड्रैगन फ्रूट, इम्यूनिटी होती है

इस तेल की तासीर होती है बेहद गर्म है
तेल में पकाई गई अजवायन, लहसुन, मेथी, हींग और गोफल की तासीर बहुत गर्म होती है। सरसों के तेल की तासीर भी गर्म मानी जाती है। इन सभी चीजों को तेल में पकाये जाने से तेल की तासीर और बहुत अधिक गर्म हो जाता है जो ठंड के कारण दर्द को कम या ठीक करने में मदद करता है।(अस्वीकरण: इस लेख में दी गई जानकारी और सूचना सामान्य जानकारी पर आधारित हैं। हिंदी न्यूज़ 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read