HomeHealthबच्चा कर रहा है ulty न घबराएँ, उनका ये घरेलू उपाय

बच्चा कर रहा है ulty न घबराएँ, उनका ये घरेलू उपाय


बच्चों को उल्टी (उल्टी) होने के कारण हमेशा किसी को गंभीर सेहत संबंधी परेशानी की वजह नहीं होती। काभी कभार खाने के सही से डाइजेस्ट न होने और गैस होने पर भी बच्चे उल्टी करते हैं। नवजात शिशुओं को छोड़ दिया जाए तो अनाप-शनाप खा लेने से भी अक्सर बच्चे उल्टी करने लगते हैं। उल्टी की वजह से बच्चों में आंतरिक कमजोरी, डिहाइड्रेशन, चिड़चिड़ापन, पेट में दर्द जैसी परेशानीें होती हैं, इसमें घबराने की बात नहीं है, लेकिन बच्चा अगर बार-बार और लगातार उल्टी कर रहा है तो उसे तुरंत उसके पास ले जाना चाहिए। वरना तो सामान्य स्थिति में आप घर पर ही नीचे बताए जा रहे हैं घरेलू उपचार (घरेलू उपचार) से बच्चों को राहत मिली हो सकती हैं।

लिक्विड विभाजन:
उल्टी होने से बच्चों के शरीर में पानी की कमी होने लगती है। इससे वे बेहद कमजोरी महसूस कर सकते हैं, इस स्थिति में बच्चों की एनर्जी वापस लाने के लिए उन्हें लिक्विड फूड दें। लिक्विड फूड में बच्चे को पैरों का रस, सब्जियों की प्यूरी, हल्का सूप, चावल का पानी जैसी चीजें दे सकती हैं। उल्टी बंद होने के 12 घंटे बाद भी सॉलिड फू’ड न लेट।

ये भी पढ़ें: बच्चों को स्वस्थ रखने के लिए ये 10 तरीके हैं खुशियां, खुशियां पाएं …

अदरक का रसः

उल्टी, खट्टी डकार या उबकाई को रोकने के लिए अदरक बेहद असरकारक है। अदरक का रस निचोड़ कर शहद की कुछ बूंदें मिला लें, ताकि बच्चा इसे लेने से आकरानी न करें। अदरक और शहद का ये मिक्सचर केवल उल्टी से ही राहत नहीं देता है बल्कि पाचन प्रक्रिया भी सही करता है।

पुदिने का रस:

फ्रेश पुदीना उल्टी से निजात मिलने में बेहद असरदार है। ताजे पुदीने की पत्तियों से एक चम्मच के बराबर रस बाहर। इसमें स्वाद के लिए एक चम्मच नींबू का रस और बहुत ही शहद सहित बच्चे को दें। तुरंत खत्म हो जाएगा। पुदीने की साबुत पत्तियां बच्चे को चबाने के लिए दे सकती हैं। हालांकि बच्चा इसे चबाने से इंकार कर सकता है, अगर चबा ले तो ये बहुत जल्दी असर करता है।

ये भी पढ़ें: बारिश के मौसम में बच्चे बार-बार हो जाते हैं बीमार, ऐसे रखें ध्यान

पुच्चीनी और लौंग दें:

पच्चीनी पेट को ठंडक पहुंचाने में मददगार है। ये उल्टी और ऊबकाई में राहत देती है। दालचीनी को पानी में उबालें और छानकर बच्चे को चलो.बच्चे को बार-बार उल्टी होने पर उसे लौंग दें। यह परिष्करण के लिए बहुत अच्छा है। अगर बच्चा बड़ा है तो उसे लौंग चबाने के लिए भी दे सकते हैं।

जीरा भी उल्टी में असरदार:

जीरा पैन्क्रीऐटिक दवाओं के स्राव को बढ़ाकर पाचन संबंधी दिक्कतों को सही करने में बेहद असरदार है। बच्चे की उल्टी रोकने के लिए लगभग एक चम्मच जीरे को भूनें और पीस लें। इसे गुनगुने पानी में मिलाकर बच्चे को दें। इसमें एक चुटकी जायफल भी मिलाया जा सकता है।जीरा पाउडर में इलायची पाउडर और शहद मिलाकर भी बच्चे को चटा सकते हैं इससे तुरंत आराम मिलेगा।

ये भी पढ़ें: बच्चों में किडनी की सेहत को नजरअंदाज न करें, ये लक्षण को समय पर पहचानें

इलायची पत्र:

उल्टी कम करने के घरेलू उपायों में इलायची के बीज बेहद प्रभावी हैं। आधा चम्मच इलायची के दाने पीसकर में थोड़ी सी चीनी सहित इसे बच्चे को दें।

सौंफ का प्रयोग करें:

बच्चे की उल्टी में सौंफ सबसे ज्यादा असरकारक प्राकृतिक उपचारों में से एक है। इसके एंटी-बैक्टिरियल क्वाल उल्टी व उबकाई को सही करने में कारगर। एक चम्मच सौंफ को एक कप पानी में उबालें और छानकर इसे बच्चे को दिन में 3 से 4 बार पिलाएं। सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं। Hindi News18 इनकी पुष्टि नहीं करता है। ये पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें।)



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read