Home Jobs and Career फीचर आर्टिकल: जयपुरिया के 3 संस्थानों को मिला एआईसीटीई से ग्रेडेड ऑटोनॉमी...

फीचर आर्टिकल: जयपुरिया के 3 संस्थानों को मिला एआईसीटीई से ग्रेडेड ऑटोनॉमी की मान्यता, देश के चुनिंदा संस्थानों का नाम उमर


  • हिंदी समाचार
  • व्यवसाय
  • जयपुरिया के तीन संस्थानों को एआईसीटीई से स्नातक की स्वायत्तता के लिए मान्यता प्राप्त है, देश में कुछ चयनित संस्थानों में नामित

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 दिन पहले

  • कॉपी लिस्ट

अमेरिकी लेखक डेनियल एच। पिंक के मुताबिक, रचनात्मक लोगों को तीन चीजें ज्यादा प्रेरित करती हैं – स्वायत्तता, निपुणता और उद्देश्य। यहाँ यह ध्यान देने वाली बात है कि यदि कोई व्यक्ति या संस्था निपुण है और उसका उद्देश्य स्पष्ट है तो उसे आगे बढ़ने के लिए स्वायत्तता यानी मर्जी से काम करने की आजादी दे देनी चाहिए। इससे उसका और उससे जुड़े हितधारकों का तेजी से विकास संभव हो पायागा।

उच्च शिक्षा में विश्वविद्यालय या शैक्षणिक संस्थानों को दी जाने वाली वर्गीकृत स्वायत्तता (ग्रेडेड ऑटोनॉमी) समान सोच पर आधारित है। ऑटोनॉमी का ग्रेड मिलने के बाद अकादमिक संस्थान के बिना किसी हस्तक्षेप के छात्रों के सही विकास के लिए स्वतंत्र रूप से निर्णय ले सकते हैं। इसी तरह ये मान्यता उन्हीं संसाधनों को मिलती है, जो विभिन्न सुविधाओं के साथ छात्रों को उच्च शिक्षा दी है। मतलब जिसका प्रदर्शन प्रदर्शन अच्छी तरहको उस हिसाब से ऑटोनॉमी यानी स्वायत्तता दी जाती है, ताकि वह खुद को और ज्यादा संभव हो सके।

इसमें संस्थान को यह स्वतंत्रता होती है कि वह स्वयं ही पाठ्यक्रम में बदलाव करे, जिससे समय के साथ छात्रों का सही दिशा में विकास संभव हो सके। इसके अलावा, संस्थान बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के लिए फोरेन फैकल्टी को भी हायर कर सकता है। यहाँ तक कि विदेशी छात्र भी संस्थानों में दाखिला ले सकते हैं।

साथ ही रिसर्च पार्क और इनक्यूबेशन सेंटर खोलने की भी स्वायत्तता दी जाती है। इसमें एक और फायदा यह है कि संस्थान विश्व की टॉप यूनिवर्सिटी के साथ कोडब्रो भी कर सकते हैं। इस तरह से ऑटोनॉमी वाले संस्थानों में छात्रों को बहुत ही शानदार एक्सपोजर मिलता है। इससे छात्र तेजी से आधुनिक शिक्षा की ओर अग्रसर होंगे।

जयपुरिया के तीन कैंपस को वर्गीकृत स्वायत्तता मिली

हाल ही में जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के दो अन्य कैंपस जयपुरिया नोएडा और जयपुरिया जयपुर को ऑल इंडियन काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (AICTE) द्वारा वर्गीकृत स्वायत्तता मिली है। इससे पहले जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट – लखनऊ को यह प्रतिष्ठित सम्मान प्राप्त हुआ था। यह PGDM प्रोग्राम्स चलाने वाले देश के अग्रणी बी-स्कूल समूह जयपुरिया के लिए विनम की बात है। बता दें कि किसी भी संस्थान की ग्रेडिंग अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू रैंकिंग और मान्यता प्रणालियों पर आधारित होती है।

उन्हें ऑटोनॉमी यानी स्वायत्तता का तमगा परिषद के संरक्षण के बाद ही मिलता है। AICTE एक बड़ा और सम्मानीय गवर्निंग बॉडी है और किसी भी संस्थान के लिए इससे सम्मान पाना बहुत ही अपमान की बात है। इस तरह का सम्मान शैक्षणिक संस्थानों को दोहरी जिम्मेदारी देता है। पहला, यह सुनिश्चित करना कि संस्थान निर्धारित नियमों का पालन करते रहें और दूसरा, छात्रों को आगे बढ़ने और उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए अवसर प्रदान करते रहें।

मान्यता कैसे मिलती है

इसकी जांच नेशनल बोर्ड ऑफ एक्रीडिएशन (एनबीए) की वेलिडेशन टीम करती है। एक्रीडिएशन टीम यह देखती है कि विश्वविद्यालय या संस्थान की परफॉर्मेंस करिकुलम, लर्निंग, इवैल्यूएशन, रिसर्च, इंफ्रास्ट्रक्चर, गवर्नेंस और लीडरशिप में कैसा है। उसी आधार पर उन्हें स्कैन दिया जाता है।

ग्रेडेड ऑटोनॉमी सम्मान पाने में जयपुरिया के इन निन्मनिखित पहल का मुख्य योगदान रहा: 1. इंक्यूबेशन इंटरप्रेन्योरशिप सेंटर। 2. प्रबंधन में फेलो प्रोग्राम की शुरुआत। 3. थॉट लीडरशिप सीरीज जिसे एनबीए एक्रीडिएशन टीम द्वारा सराहना मिली। 4. मजबूत सामुदायिक कार्यक्रम 5. राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, टर्मिनल अथॉरिटी ऑफ इंडिया आदि सहित कार्यकारी शिक्षा के लिए पुरस्कार।

छात्रों को वैश्विक Profical के रूप में तैयार करना जयपुरिया का लक्ष्य

जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट का विकसित और सबसे अच्छे छात्रों के समग्र विकास में मदद करता है। इसने ना केवल समय के साथ खुद को बदला है, बल्कि उद्योग के इनपुट से छात्रों को लगातार परिचय दिया जा रहा है। जयपुरिया का लक्ष्य मजबूत और उद्योग एक्सपीरियंस फैक्ल्टी के साथ छात्रों को नए युग की शिक्षा प्रदान करना है। छात्रों के लिए जयपुरिया का प्रयास उन्हें समग्र विकास की ओर ले जाना है और उन्हें भविष्य की चुनौतियों के लिए तैयार कर वैश्विक पेशेवर के रूप में के रूप में करना है।

आगे की क्या योजना है

बिजनेस एनालिटिक्स, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसे नए युग के पाठ्यक्रम की पेशकश करने वाले उद्योग के रुझान को ध्यान में रखते हुए जयपुरिया हमेशा फैकल्टी और छात्रों के बीच विविधता को बनाए रखना चाहती है। शानदार उपहार, समावेशी प्रोफाइल इसका एक प्रमाण है। यह विकास का पक्षधर रहा है और पिछले ढाई दशक में इसने जो कुछ भी बनाया है, उसे और भी मजबूत करना चाहता है।

अब जयपुरिया अपने सभी कैंपस के लिए AACSB अंतर्राष्ट्रीय मान्यता पर ध्यान केंद्रित कर रहा है और इसके लिए सही दिशा में आगे बढ़ रहा है।]इसी तरह कोई दो राय नहीं है कि ग्रेडेड ऑटोनॉमी मान्यता आगे के रास्ते को आसान बनाएगी और बी स्कूल के लिए भविष्य की योजनाओं को प्रभावित करेगा।

शैक्षणिक सत्र 2021-23 के लिए एडमिशन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट ने मेधावी छात्रों के लिए 3.89 करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति की भी घोषणा की है।

अध्यादेश की जानकारी के लिए क्लिक करें



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read