Home Health फरवरी और मार्च में भारत में देखनी हो बर्फबारी, तो जरूर पहुंचें...

फरवरी और मार्च में भारत में देखनी हो बर्फबारी, तो जरूर पहुंचें ये 6 डेस्टिनेशन- News18 हिंदी


भारत के कई हिस्सों में मकर संक्रांति (मकर संक्रांति) के बाद सर्दियां धीरे-धीरे कम होने लगती हैं। लगभग पूरे उत्तर और मध्य भारत में सर्दियां अलविदा कहने को तैयार रहती हैं और कई हिस्से कोहरे (कोहरे) की चादर में लिपटे हुए होते हैं, लेकिन आप क्या जानते हैं कि देश के कई हिस्सों में फरवरी और मार्च तक भी स्नोफॉल या बर्फबारी (बर्फबारी) ) होता है। अक्सर ये देखा जाता है कि फरवरी और मार्च में लोग हिल स्टेशन (हिल स्टेशन) की तरफ जाते हैं, लेकिन बर्फबारी न देखकर कई बार निरर्थक होते हैं। शिमला, मसूरी, नैनीताल जैसे हिल स्टेशन्स पर बर्फबारी फरवरी या मार्च तक नहीं होती है और इसलिए फरवरी और मार्च का बजट प्लान बनाते समय आप उन डेस्टिनेशंस को चुनें जो इस वक्त बर्फबारी के लिए फेमस हैं। अगर आप अगले दो महीने में कहीं घूमने का प्लान बना रहे हैं और चाहते हैं कि आपको बर्फीली चोटियों और खूबसूरत नजारे देखने को मिलें तो आइए आपको बताते हैं कि आप कौन से बर्थ डेस्टिनेशंस को चुन सकते हैं।

सोनमर्ग

बर्फबारी का समय- नवंबर से अप्रैल के शुरू होने तक

घूमने की लिस्ट में पहला स्थान सोनमर्ग का है। कश्मीर का सोनमर्ग बर्फबारी के लिए सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है और यही एक जगह है जहां आपको अप्रैल तक बर्फबारी देखने को मिल सकती है। सीजन की पहली और आखिरी बर्फ यहीं गिरती है और ग्लेशियर से लेकर जमे हुए तालाब तक आपको न जाने क्या-क्या देखने को मिलेगा। अगर आप गर्मियों के मौसम में जैसे मई में भी बर्फ देखना चाहते हैं तो थाजीवास ग्लेशियर (Thajiwas Glacier) सबसे करीब ऑप्शन साबित हो सकता है। भारत में अगर कहीं विंटर वंडरलैंड है तो वह सोनमर्ग में ही है। गर्मियाँ यहाँ मई में शुरू होती हैं और बहुत कम समय के लिए रहती हैं। इसलिए आप यहाँ इसकी गणना से प्लानिंग कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: इस वीकेंड हरियाणा के करनाल घूमने का बनाएँ योजना, मिस मत करो ये खूबसूरत जगहें

गुलमर्ग

बर्फबारी का समय- दिसंबर से मार्च तक

सोनमर्ग में जहां आपको अप्रैल तक बर्फ मिल सकती है वहीं कश्मीर के गुलमर्ग में आपको मार्च तक बर्फ दिखने को मिलेगी। अगर आप स्नो स्पोर्ट्स और स्कीइंग के शौकीन हैं तो ये जगह आपके लिए जन्नत है। गुलमर्ग और श्रीनगर काफी पास हैं इसलिए हर साल यहां हजारों टूरिस्ट आते हैं। यहां गंडोला टैक्सी राइड और ट्रेकिंग का भी मजा लिया जा सकता है। प्रसार क्षल श्रेणी और नागा परबत के लिए यदि ट्रेकिंग करना है तो गुलमर्ग बेस कैंप भी हो सकता है। यहां आपको बेहतरीन नजारों के साथ एडवेंचर भी मिलेगा।

मनाली और रोहतांग हैं

बर्फबारी का समय- नवंबर से मार्च तक

अगर आप दिल्ली के आसपास रहते हैं तो सबसे ज्यादा डेस्टिनेशन मनाली ही साबित हो सकती है। हिमाचल का ये खूबसूरत डेस्टिनेशन बहुत ही आकर्षक है और यहां कई बार टूरिस्ट्स सिर्फ रोहतांग वाले के लिए ही आते हैं। हालांकि रोहतांग के पास बहुत भारी बर्फबारी के समय पर बंद हो जाता है और यहां काफी ट्रैफिक जाम लगता है। इसलिए यहाँ जाने के पहले देखना होगा कि ये रास्ता खुला है या नहीं। उसकी योजना आप तुरंत ही बनाएँ तो अच्छा होगा। इसके अलावा मनाली में जनवरी से मार्च तक आपको भारी बर्फबारी देखने को मिल सकती है। ये जगह बहुत खास है और अगर आपको यहां एडवेंचर स्पोर्ट्स करने हैं तो सोलिंग वैली जरूर जाएं। सोलिंग वैली में भी आपको मार्च तक बर्फबारी देखने को मिल जाएगी।

ऑली

बर्फबारी का समय- जनवरी से मार्च तक

अगर आप स्कीइंग के शौकीन हैं और किसी अच्छे स्की रिजॉर्ट में जाकर आराम फरमा चाहते हैं और आपको जान कर मार्च में ही मिलेंगी तो ऑली बहुत ही अच्छी औप्शन हो सकती है। यहां मार्च में तुरिस्टों की काफी भीड़ मिलती है, लेकिन यहां वो लोग होंगे जिन्हें एडवेंचर पसंद है। ये OFBAT हिल स्टेशन पिछले कुछ समय में काफी फेमस हो गया है और अब तो ऑली में टूरिस्ट्स के लिए ज्यादा बेहतर सुविधाएं भी दी जा रही हैं। यहां नंदा देवी और माना पर्वत के नजारे देखते हैं स्कीइंग की जा सकती है।

नॉर्थ सिक्किम

बर्फबारी का समय- दिसंबर से मार्च तक

वैसे तो सिक्किम का युमथांग हर वक्त बर्फ से ढका हुआ रहता है, लेकिन अगर आप सही बर्फबारी देखनी है तो नॉर्थ सिक्किम जाओ। इसी तरह यहाँ पर बहुत बर्फ गिरती है और कई बार तो कई फुट बर्फ एक ही दिन में गिर जाती है इसलिए आपको यहाँ से पहले मौसम की जानकारी जरूर ले लेनी चाहिए। भारत में सबसे खतरनाक सर्दियां यहीं पड़ती हैं। हालाँकि आप यहाँ बहुत सारे एडवेंचर ट्रेक का मजा ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें: दिल्ली के पास स्थित मोरनी हिल्स घूमने का प्लान जरूर बनाएं, लें सर्दियों का असली मजा

द्रास

बर्फबारी का समय- अक्टूबर से अप्रैल तक

भारत का सबसे ठंडा शहर द्रास है। यहां मई तक आपको बर्फ मिल जाएगी और यही नहीं यहां का तापमान -45 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाएगा। इसलिए आपको ये ध्यान रखना होगा कि यह बहुत ही अधिक एडवेंचर प्रेमियों के लिए ही है। आप यहां अप्रैल अंत या मई में भी जाएंगे तो आप बर्फ मिल जाएंगे। यह नहीं है कि पार नहीं अब एडवेंचर टूरिज्म के लिए काफी सारी सुविधाएं हो गई हैं इसलिए आप यहां से जाने से पहले पूरी तैयारी कर लें।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read