HomeHealthपेट का फैट घटाने में मददगार हैं ये आसन, शरीर में लाएंगे...

पेट का फैट घटाने में मददगार हैं ये आसन, शरीर में लाएंगे फुर्तीटी- News18 हिंदी


(सविता यादव)

आज के लाइव योगा सेशन (लाइव योग सत्र) में शरीर को मजबूत बनाने वाले कई योगासन (योग आसन) सिखाए गए हैं। इनमें कुछ सूक्ष्मतम संयम कराए गए हैं जो अन्य आसनों को करने में मददगार होते हैं। साथ ही सर्वांग की पुष्टि और इंजन को इन दोनों का कॉम्बिनेशन भी किया गया। नियमित रूप से योग करने से शरीर में एनर्जी (शरीर ऊर्जा) का संचार तो होता ही है, साथ ही कई प्रकार की बीमारियों से भी छुटकारा मिलता है। वहीं योग करने से आलस भी दूर होता है। इसके अलावा बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करने में भी ये मददगार होते हैं। साथ ही योग करने से व्यक्तित्व में भी निखार आता है। ये व्यायाम को करने से शरीर का दर्द भी बढ़ता है और मोटापा घटता है। लेकिन योग करते समय इस बात का ध्यान रखें कि योग शरीर की क्षमतानुसार किया जाना चाहिए। तो आइए शक्तियां रहने की ओर से एक कदम और बढ़ाते हुए योग करें।

उष्ट्रासन
यह आसनिन की हड्डी से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए बहुत ही प्रभावी आसन है। इस आसन में शरीर ऊंट की मुद्रा में होता है। इस मुद्रा में शरीर को पीछे की तरफ झुकाया जाता है। इससे योनि की हड्डी पर सकारात्मक दबाव बनता है। इस दबाव के कारण जल्दी ही रीढ़ की हड्डी की समस्याएं दूर होने लगती हैं।

बटरफ्लाई आसन
बटरफ्लाई आसन बहुत ही एफेक्टेड है। इसे डीवीडी आसन भी कहते हैं। महिलाओं के लिए ये आसन विशेष रूप से लाभकारी है। बटरफ्लाई आसन करने के लिए पैरों को सामने की ओर फैलाते हुए बैठ जाएं ,ाइन की हड्डी सीधी रखें। घुटनो को मोड़ना और दोनों पैरों को श्रोणि की ओर लाएं। दोनों हाथों से अपने अपने पांव को कस कर पकड़ लें। सहारे के लिए अपने हाथों को पांव के नीचे रख सकते हैं। एड़ी को जननांगों के रूप में लगभग हो सके लाने का प्रयास करें। लंबी, गहरी सांस लें, सांस छोड़ते हुए घटनों और जांघो को जमीन की तरफ झुकाना डालें। क्रिस्टल के पंखों की तरह दोनों पैरों से ऊपर नीचे हिलाना शुरू करें। धीरे धीरे तेज करें। सांस लें और सांस छोड़ें। शुरुआत में इसे जितना संभव हो सके उतना ही करें। धीरे-धीरे अभ्यास बढ़ाते हैं।

यह भी पढ़ें – सर्वांग पुष्टि आसन से शरीर निरोग रहेगा

बटरफ्लाई आसन के फायदे
जांघो, और घोनो का अच्छा खिंचाव होने से कूल्हों में यह परिवर्तन होता है। मासिक धर्म के दौरान होने वाली असुविधा और मोनोपॉज के लक्षणों से आराम। गर्भावस्था के दौरान लगातार प्रसव से आसानी से।

मारजरी आसन
मार्जरी आसन को अंग्रेजी में कैट पोज (कैट पोज) के नाम से बुलाया जाता है। इसे कैट खिंचाव मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है। इस आसन को करने से रीढ़ और पीठ की मांसपेशियों का दर्द बना रहता है। मार्जरी आसन एक आगे की ओर खिलाने और पीछे मुड़ने वाला योग आसन है। कैट वॉक दुनिया भर में प्रसिद्ध है, लेकिन हम योग आसन वर्ग में कैट पोज के बारे में चर्चा करते हैं। यह आसन आपके शरीर के लिए अनके प्रकार से लाभदायक है। यह आसनिन की हड्डी को एक अच्छा खिंचाव देता है। इसके साथ यह पीठ दर्द और गर्दन दर्द में राहत दिलाता है।

मारजरी आसन के फायदे
रीढ़ की हड्डी को अधिक लचीला बनने में मदद करता है
शोधन क्रिया में सुधार करने में मदद करता है
रक्त संचरण में सुधार करता है
पेट से सामान्य वसा को कम करने में मदद करता है
पेट को टोन करने में मदद करता है
तनाव को दूर करने में बहुत मदद करता है
मन को शांत करके मानसिक शांति प्रदान करता है
कंधे और कलाई दोनों को मजबूत बनाता है

सर्वांग पुष्टि आसन
ऑल्टैंग ने आसन के लिए मैट पर दोनों पैर फैलाकर सीधे खड़े हो जाएं। इस तरह बंद करें कि अंगूठा दिखाई ना दे। अब दोनों हाथों को नीचे झुकाकर बाएं टखने के पास बायां हाथ नीचे और दाएं हाथ मुट्ठी के ऊपर रखें। सांस भरते हुए धीरे-धीरे दोनों हाथों से ऊपर की ओर बाएं कन्धे के अंक से सिर तक ले जाएं और दाएं टखने की तरफ सांस छोड़े। दाहिना हाथ नीचे और बायां हाथ ऊपर रखें। फिर से सिर पर दोनों हाथों के नीचे से ऊपर दाएं कान्हे तक लाते हुए सिर के ऊपर तक ले जाएं। अब बाईं ओर मुड़ते हुए दोनों हाथों से बाएं कान्हे से नीचे की ओर बाएं टखने तक लाएं। सांस छोड़े, हाथ को बदल-बदलकर बायां नीचे और दाहिना ऊपर रखें। यह दो बार दोहराता है। हर अंग की चर्बी घटाने के लिए करें ‘सर्वांग पुष्टि आसन’ बेहतरीन है। लेकिन जो लोग लोअर बैक पेन की समस्या से परेशान हैं वे इस आसन को ना करें।

यह भी पढ़ें: कंधे को मजबूत बनाएंगे ये योगासन, पीठ और कमर दर्द भी दूर होंगे

ऑल्टैंग की पुष्टि आसन के फायदे
-फैट को कम करता है
-कमर को लचीला बनाता है
-मांसपेशियों को मजबूत बनाता है
-मोटापा कम करता है



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read