Home Health ठीक होने के बावजूद खराब हो जाता है कोरोनाफॉर्म का फेफड़ा, डॉक्टर्स...

ठीक होने के बावजूद खराब हो जाता है कोरोनाफॉर्म का फेफड़ा, डॉक्टर्स ने किया सनसनीखेज दावा


(फोटो: बोर्डपांडा वेबसाइट से)

डॉ बिटनी बेंकहेड केंडल ने दावा किया, धूम्रपान (धूम्रपान) करने वालों से ज्यादा खतरे में हैं विभाजित (Covid-19) पॉज़िटिव से निगेटिव होने वाले लोगों के फेफड़े। फिट महसूस होने पर नहीं हो रही है कोई परेशानी लेकिन भविष्य में हो सकता है बड़ी परेशानी। फेफड़ों की करवाएं जाँच।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:19 जनवरी, 2021, 4:17 PM IST

कोविद पोजिटिव (कोविड पॉजिटिव) बने हुए लोगों के इलाज के बाद ठीक तो हो रहे हैं लेकिन क्या उनके फेफड़े भी उतने ही ठीक हैं जितने वे खुद दिखाई दे रहे हैं? जी नहीं, अगर वह अपने फेफड़े (फेफड़े) की जाँच करवाएं तो उनके फेफड़े एक बुरी तरह से धूम्रपान करने वाले इंसान से भी बहुत ख़राब होंगे।

ये बात हम नहीं कह रहे। यह बात कही है, टेक्सॉस टेक यूनिवर्सिटी हेल्थ साइंसेज सेंटर के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ बिटनी बेंकहेड केंडल ने कहा। डॉ ने तीन तरह के लोगों के फेफड़ों की जाँच की है। इनमें से एक पूरी तरह से स्वस्थ व्यक्ति, एक बुरी तरह से धूम्रपान करने वाला व्यक्ति और एक को विभाजित का पेशेंट शामिल था।

फेफड़ों

स्वस्थ व्यक्ति के फेफड़े (फोटो: बोरपांडा)

इन तीनों लोगों में सबसे ज्यादा ख़राब फेफड़े को विभाजित के पेशेंट बने हुए व्यक्ति के थे। डॉ, मार्च से अब तक को विभाजित के हज़ारों पेशेंट का इलाज कर रहे हैं। डॉ ने तीनों के फेफड़े के एक्सरे को अपने ट्वीटर अकाउंट पर भी पोस्ट किया है। उन्होंने इसमें बात को बेहतर तरीके से निर्दिष्ट किया है।

फेफड़ों

धूम्रपान करने वाले व्यक्ति के फेफड़े (फोटो: बोरपांडा)

डॉ। ने अलग-अलग लोगों के फेफड़े के एक्सरे को कंपेयर किया।स्वस्थ इंसान के एक्सरे बिलकुल साफ दिख रहे हैं और इसमें ज्यादा काला स्थान है जिससे यह पता चल रहा है कि यह व्यक्ति हवा को ज्यादा मात्रा में और ज्यादा देर तक इन्हेल कर रहा है। हो सकता है। मुस्कान करने वाले के फेफड़े में जख्म और जमाव साफ नज़र आ रहा है, जो खतरे की ओर इशारा कर रहा है। वहीं, कोविड पॉज़िटिव रह चुके पेशेंट के फेफड़े हैं, जो लगभग पूरी तरह से सफेद दिख रहे हैं। जिसका मतलब है फेफड़े की तरह से ख़राब हो चुके हैं।

फेफड़ों

कोरोनायन व्यक्ति के फेफड़े (फोटो: बोरपांडा)

डॉ कहते हैं, को विभाजित पॉजिटिव से निगेटिव हुआ किसी भी व्यक्ति से उसका हाल पूछने पर वह कहता है, मैं पूरी तरह से ठीक हूं, मुझे कोई दिक्कत नहीं है। लेकिन मौलिकता में उसके फेफड़े बिलकुल ठीक नहीं होते हैं। जो आगे उसको काफी परेशानी देने वाले हैं।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read