HomeHealthठंड के मौसम में बुजुर्गों को जियादा देखभाल की जरूरत है, कुछ...

ठंड के मौसम में बुजुर्गों को जियादा देखभाल की जरूरत है, कुछ बातों का ध्यान रखें- News18 हिंदी


सर्दियों के मौसम (सर्दियों के मौसम) में जहाँ पेंगुइनों की जियाडा कैर (देखभाल) करनी पड़ती है, वहीं इस मौसम में बुजुर्गों की भी जियाडा देखभाल किए जाने की जरूरत होती है। एशियाइक एक ओर जहां मौसमी बीमारियां और अन्य संक्रमण (संक्रमण) इनको अपनी चपेट में ले सकते हैं, वहीं इस मौसम में हड्डियों, जोड़ों आदि में होने वाला दर्द भी इनकी दिक्क्तें बढ़ा देता है। ऐसे में कुछ बातों का ध्‍यान रख कर इनकी देखभाल की जाए तो इन्‍हें मोसमी प्रकोप और अन्‍य समस्‍याओं से काफी हद तक लगभग 70 किया जा सकता है। वहीं कोरोना महामारी में तो उनके स्वस्तथ को लेकर जियालदा सजग रहना और बहुत जरूरी हो गया है।

कोरोना काल में • जियादादा धयान
इस मौसम में जहां सर्द हवाएं बुजुर्गों के लिए नुकसानदायक हो सकती हैं, वहीं वायरल, बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण भी काफी खतरनाक है। इसके अलावा कोरोना महामारी में तो बुजुर्गों का और जियालदा धानन रखे जाने की जरूरत है। ऐसे में उनका स्वच्छता का ध्यान रखें। ही ही बहुत जरूरी होने पर ही बाहर निकलते हैं और जब बाहर भी जाते हैं तो माई आदि को जरूर लगाया जाता है।

ये भी पढ़ें – कुछ छोटी आदतें जीवन में लाएगी बडे बदलाव

ठंड के प्रभाव से बचा रहे हैं

सर्दियों में कम तापमान और प्रदूषण आदि के संपर्क में आने से जिन लोगों को जोड़ों आदि में दर्द और अस्थमा आदि होता है, उनकी परेशनियों इस मौसम में और बढ़ जाती हैं। ऐसे में घर के बुजुर्गों को ठंड के प्रभाव से बचाए रखें। कई सम्सायों से जूझ रहे बुजुर्गों को हड्डियों, जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द आदि के समसया में वृद्धि हो सकती है। ऐसे में उनके आहार का विशेष खयाल रखें। उनहें हलका और संतुलित करें। ऐसे आहार जो पोषक तत्वों से भरपूर हों और उनके स्वास्थ्य के लिए बेहतर हों।

ये भी पढ़ें – डिजिटल डिटॉक्स: बेहतर जीवन और रिश्तों के लिए जरूरी है डिजिटल डिटॉक्स

अपनों का साथ खुशी देगा
घर के बुजुर्गों को सही समय पर दवा देते रहें और डॉक्टर की सलाह पर समय समय पर उनकी जांच आदि भी रहें। उनकी बल्ड प्रेशर, ब्लड शुगर और दिल से संबंधित आदि जांच होती रहती हैं। साथ ही उनके साथ बेहतर संबंध बनाए रखें। आपकी पयार भरी हुई साथ उन्हें खुशी देगा और खुशी भरा माहौल पाकर ही वे अपनी शारीरिक दिक्क्तों का सामना मजबूती से कर रहे होंगे।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read