HomeHealthठंड के मौसम में जरूर खाएं बथुए का साग, जानें इसके 8...

ठंड के मौसम में जरूर खाएं बथुए का साग, जानें इसके 8 खास फायदे


ठंड के मौसम (सर्दियों के मौसम) में बथुए (बथुआ) का साग अधिक से अधिक सेवन करने से कई प्रकार की शारीरिक समस्याओं से दूर रहा जा सकता है। बथुए का सेवन कम से कम मसाले डालकर करें। नमक न मिलाएं तो अच्छा है, अगर स्वाद के लिए मिलाना पड़ा तो सेंधा नमक (रॉक साल्ट) मिलाएं और देसी घी से छौंक पाते हैं। बथुए का उबाला हुआ पानी अच्छा लगता है और इसके दही में बनाया हुआ रायता स्वादिष्ट होता है। सर्दियों में किसी भी तरह से बथुआ का सेवन जरूर करें। बथुए में लोहा, पारा, सोना और क्षार पाया जाता है। आइए जानते हैं इसके फायदों के बारे में।

-बथुआ आमाशय को ताकत देता है और कब्ज की समस्या से छुटकारा दिलाता है। बथुए की सब्जी पेट के लिए अच्छी तरह से होती है, कब्ज वालों को बथुए का साग जरूर खाना चाहिए। बथुआ खाने से शरीर में ताकत आती है और एलर्जी बनी रहती है।

-सर्दियों में बथुए का साग जरूर खाटे। इससे पेट की समस्या से छुटकारा मिलता है। बथुए का रस पीने से भी पेट के हर प्रकार के रोग, यकृत, तिल्ली, अजीर्ण, गैस, कृमि, दर्द, अर्श पथरी ठीक हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें: सर्दियों में अपनाएं ये डिटॉक्स प्लान, ऐसे रखें खुद को हेल्दी-पटरी हो तो एक गिलास कच्चे बथुए के रस में शकर सहित पीने से आराम मिलता है। वहीं बथुए को उबालकर इसके पानी से सिर धोने से बालों की ग्रोथ अच्छी होती है और स्कैल्प पर किसी प्रकार का इंफेक्शन नहीं होता है।

-पीरियड्स अगर रुक रुक कर होते हैं तो दो चम्मच बथुए के बीज एक गिलास पानी में उबालें। आधा रहने पर छक्कर पी जाओ। इससे पीरियड्स नियमित रूप से होंगे। बथुए का साग खाने से आँखों में सूजन भी दूर होती है।

-आधो बथुआ, तीन गिलास पानी, दोनों को उबालें और फिर पानी छान लें। बाथू को निचोड़कर पानी निकालकर छाने हुए पानी में मिला लें। स्वाद के लिए नींबू, जीरा, जरा सी काली मिर्च और सेंधा नमक लें और इस पानी को पी जाएं। इसे पीने से यूरिन संबंधी समस्या दूर होती है।

-पेट की गैस और अपच की समस्या को दूर करने के लिए भी बथुए का साग ईबे जाता है। इसे खाने से पेट हल्का लगता है। बथुए के उबले हुए टुकड़े भी दही में मिलाकर खाए जा सकते हैं।

-क ट्रेन बथुए का रस नमक सहित पीने से पेट की कृमि की समस्या में निजात मिलती है। बथुए के बीज एक चम्मच पिसे हुए शहद में मिलाकर चाटने से भी कृमि मर जाते हैं और शरीर में ब्लड सर्कुलेशन रहता है।

यह भी पढ़ें: कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने के लिए जरूर खाएं ये 4 सुपरफूड्स, तुरंत असर

-सफ़ेद दाग़, दाद, खुजली, फोड़े जैसे चर्म रोगों में नियमित रूप से बथुआ उबालकर, निचोड़कर इसका रस पिएं और सब्जी खाएँ। बथुए के उबले हुए पानी से स्किन पर हुए इंफेक्शन को धोया भी जा सकता है। बथुए के कच्चे पत्ते पीसकर निचोड़कर उसका रस निकाल लें। अब दो कप रस में आधा कप तिल का तेल मिलाकर गर्म आंच पर गर्म करें। जब रस जलकर पानी ही रह जाए तो छानकर शीशी में भर लें और स्किन पर होने वाले किसी भी प्रकार के इंफेक्शन पर लगाएं। लंबे समय तक लगाते रहें, लाभ होगा।(अस्वीकरण: इस लेख में दी गई जानकारी और सूचना सामान्य जानकारी पर आधारित हैं। हिंदी समाचार 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें।)



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read