HomeReligiousचाणक्य नीती चाणक्य नीती हिंदी में चाणक्य नीती जीवन में सफलता के...

चाणक्य नीती चाणक्य नीती हिंदी में चाणक्य नीती जीवन में सफलता के लिए ये बातें पति पत्नी के रिश्ते में दरार नहीं है


चाणक्य नीति हिंदी: चाणक्य की गिनती भारत के श्रेष्ठ विद्वानों में की जाती है। चाणक्य को शास्त्र के साथ साथ समाजशास्त्र, राजनीति शास्त्र, कूटनीति शास्त्र और सैन्य शास्त्र के भी ज्ञाता थे। आचार्य चाणक्य का संबंध विश्व प्रसिद्ध तक्षशिला विश्व विद्यालय से भी था। चाणक्य ने तक्षशिला विश्व विद्यालय से शिक्षा प्राप्त की थी और बाद में वे इसी विद्यालय में आचार्य हुए। चाणक्य ने हर उस संबंध के बारे में भी जानने और समझने की कोशिश की जो मनुष्य को सबसे अधिक प्रभावित करते हैं। चाणक्य के अनुसार पति और पत्नी का रिश्ता भी इनमे से एक है।

चाणक्य की चाणक्य नीति मनुष्य को जीवन जीने की कला सिखती है। यही नहीं जीवन में सफल होने के लिए भी प्रेरित करता है। यही कारण है कि इतने वर्षों के बाद भी चाणक्य की चाणक्य नीति की प्रांसगिकता कम नहीं है। आज भी बड़ी संख्या में लोग चाणक्य नीति का अध्यन करते हैं। चाणक्य नीति में पति और पत्नी के रिश्तों के बारे में भी प्रकाश डाला गया है। चाणक्य के अनुसार पति और पत्नी का रिश्ता विश्वास, अच्छाई और प्रेम पर टिका हुआ है। इसलिए इस संबंध में कुछ बातों का हमेशा ध्यान रखना चाहिए।

प्रेम के महत्व को जानें
चाणक्य के अनुसार किसी भी रिश्ते की पहली शर्त प्रेम ही है। प्रेम रहित रिश्ते की उम्र अधिक नहीं होती है। जिन रिश्तों में प्रेम होता है वे लंबे समय तक चलते हैं। पति और पत्नी के रिश्ते में भी यही बात लागू होती है। इस संबंध में प्रेम की कमी नहीं होनी चाहिए। प्रेम विश्वास से आता है। इसलिए एक दूसरे के प्रति समर्पित रहना चाहिए।

विश्वास में न आने दें कमी
चाणक्य के अनुसार दांपत्य जीवन में विश्वास की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है। विश्वास में कमी आने पर ही दांपत्य जीवन में बहाव आता है। इसलिए इस संबंध में विश्वास को बनाए रखने के लिए निरंतर प्रयास करना चाहिए। विश्वास मजबूत होने से प्रेम में वृद्धि होती है।

अच्छा बनाएँ रखें
चाणक्य के अनुसार हर रिश्ते का अच्छा करना चाहिए। जो संबंध में भावनाओं और सम्मान की कमी बनी रहती है, वह संबंध में कोई न कोई कमी बनी ही रहती है। पति और पत्नी के संबंध में भी अच्छाई और सम्मान का पूरा ध्यान रखना चाहिए। एक दूसरे का मन बनाते हैं। भावना और सम्मान में कमी आने पर दांपत्य जीवन प्रभावित होने लगता है।

रशीफ़ल: 22 जनवरी को शनि करने जा रहे हैं नक्षत्र परिवर्तन, इन राशियों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, खोजा जा सकता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read