HomeHealthगणतंत्र दिवस 2021: राष्ट्रीय ध्वज फहराने के हैं ये विशेष नियम, आप...

गणतंत्र दिवस 2021: राष्ट्रीय ध्वज फहराने के हैं ये विशेष नियम, आप भी जानें


गणतंत्र दिवस 2021: देश में हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (गणतंत्र दिवस) मनाया जाता है। इस बार देश में 72 वें गणतंत्र दिवस का जश्न मनाया जा रहा है। यह एक राष्ट्रीय त्योहार है। 26 नवंबर 1949 को भारतीय संविधान सभा (भारत की संविधान सभा) की ओर से संविधान को अपनाया गया और 26 जनवरी, 1950 को इसे लागू किया गया। गणतंत्र दिवस समारोह के मौके पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा भारतीय राष्ट्र ध्वज को फहराया जाता है। तिरंगा हमारा राष्ट्रीय ध्वज (राष्ट्रीय ध्वज) है। इसमें केसरिया, सफेद और हरा तीन रंग हैं। इसलिए इसे तिरंगा भी कहा जाता है। राष्ट्र ध्वज को फहराते समय किन चीजों का धचनान रखना जरूरी है और राष्ट्रीय ध्वज फहराने के करता है विशेष नियम, आप भी जानिए-

तिरंगा झुका नहीं सकता
न्यू कोड की धारा 2 में सभी निजी नागरिकों को अपने परिसरों में राश धवज फहराने का अधिकार देना शवीकर किया गया है। तिरंगे को कभी झुकाया नहीं जाता, न ही जमीन पर रखा जाता है। आदेश के बाद ही सरकारी भवनों पर झंडे को आधा झुकाकर फहराया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- इस बार रिपब्लिक डे कुछ अलग रहेगा, जानें इससे जुड़ी दिलचस्प बातेंइतनी लंबाई होनी चाहिए

झंडे की लंबाई और चौड़ाई का अनुपात 3: 2 का होना चाहिए। इसके अलावा केसरिया रंग को नीचे की ओर करके ध्वज लगाया या फहराया नहीं जा सकता है।

इस बीच केवल फहराया जाएगा
इस धवज को किसी भी लाभ, पर्दें या वस्रतों के रूप में उपयोग नहीं किया जा सकता है। जहां तक ​​संभव हो इसे मौसम से प्रभावित हुए बिना सूर्योदय से सूर्यास्त के बीच ही तिरंगा फहराया जा सकता है।

भूमि से विनिमय नहीं करना चाहिए
इस धक्ज को आशय पूर्वक भूमि, फर्श या पानी से शपर्श नहीं किया जाना चाहिए। यह वाहनों के ऊपर और बगल या पीछे, रेलों, नावों या वायुयान पर लपेटा नहीं जा सकता।

अन्य धवज इससे ऊंचा न हो
भारतीय राशियाँ धवलज भारत के नागरिकों की आशाओं और आकांक्षाओं को दर्शाता है। यह हमारे रा माननीय का प्रतीक है। किसी अन्य धेवरज या धेवरज पट्ट को हमारे धेवरज से ऊंचे दर्जे पर लगाया नहीं जा सकता है।

यह भी पढ़ें- स्वामी विवेकानंद जयंती: जानें स्वामी विवेकानंद से जुड़ी 10 अनोखी बातें

नुकसान नहीं पहुंचा
रा और धवज को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंच सकता। झंडे के किसी हिस्से को जलाने, नुकसान पहुंचाने के अलावा मौखिक या शाब्दिक तौर पर इसकी अपमान करने पर सजा और व्यंजनों दोनों हो सकते हैं। (अस्वीकरण: इस लेख में दी गई जानकारी और सूचना सामान्य जानकारी पर आधारित हैं। हिंदी न्यूज़ 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read