HomeHealthऑफिस की इन हैबिट्स की वजह से बिगड़ती है दिल की सेहत,...

ऑफिस की इन हैबिट्स की वजह से बिगड़ती है दिल की सेहत, सावधान रहें- News18 हिंदी


आज हर कोई अपने जीवन में बिजी है। सुबह उठने के साथ ही हम अपने कार्यालय (कार्यालय) के लिए तैयार होते हैं और कार्यालय में ही दिन भर काम में रेगिन रहते हैं। ऐसे में शट्रेस (तनाव) और थकावट हमारी लाइफ श्टाइल (लाइफ स्टाइल) पर हावी हो जाती है जिसका सीधा असर हमारे दिल पर पड़ता है। भारत में दिल की बीमारी से होने वाली मौतों की संख्या में तेजी से इजाफा चिंता का विषय है। यह विशेष तौर पर यंग अडल्ट्स (युवा वयस्क) में देखा जा रहा है जो कार्यालय में दिनभर शासक रहते हैं। इसकी वजह तनाव और डिप्रेशन बताई जा रही है। आपको यहाँ कुछ ऐसी आदतें बताती हैं जिनकी वजह से आपका दिल बीमार हो रहा है।

कैंटीन के फास्टर फूड

ब्रेकटाइम को सेलीब्रेट करने के लिए हम खाना पीना चाहते हैं। समय बचाने के लिए कैंटीन के फास्ट फूड (फास्ट फूड) को हम मजे में खा तो लेते हैं लेकिन यह नहीं सोचते कि यह हमारे सेहत के लिए कितना बुरा है। इससे बचने के लिए आप अपने साथ लंच बॉक्स कैरी कर सकते हैं। इसमें ओट्ठस, नट्ठ या फ्रूट वगैरह रख सकते हैं। कोशिश करें कि हर रोज 10 ग्राम फाइबर जरूर लें। इससे आप दिल के प्रोब्बीम को 17 प्रतिशत तक कम कर सकते हैं।

एक जगह बैठै रहना

ऑफिस में हमेशा बैठे रहना। कार्यालय में हमेशा बैठे रहने से हार्ट पर बुरा असर पड़ता है। इसलिए बीच बीच में रहने का मौका खोजते रहें। थोड़ा मामूली देर में ब्रेक लें और यहां-वहां वॉक करें। लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों का इस्तेमाल करें। गाड़ी थोड़ा दूर पार्क करें और पैदल चलें।

निगेट लोगों से दूर रहें

निगेटिव सोच वाले लोगों से दूरी बनाएं। खुद को भी बात ऐसा करने से आप काम करते हैं, ऊर्जा से भरपूर होते हैं और आप अपने आप से भी ठीक रहेंगे। एक रिसर्च के मुताबिक, निगेटिव सोच रखने वालों के मुक्काबले पॉजिटिव सोच वालों में डाय, हाई बीपी, कोलस्ट्रोल और अवसादग्रस्त होने के मामले कम पाए गए।

सुदे दोसतों का अभाव

ऑफिस में आपसी कंपिटिशन की वजह से दोसती मुश्किल से ही होती है। लेकिन यह सही नहीं है। अगर आपके आस पास कुछ अच्छाे दो वाले दिखते रहेंगे तो आपको शट्रेस दूर रखने में मदद मिलेगी। इसलिए, हर जगह हर जगह चल रही है। (अस्वीकरण: इस लेख में दी गई जानकारी और सूचना सामान्य जानकारियों के आधार पर हैं। हिंदी समाचार 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है। ये पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें।)



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read